Skip to main content

Dilip Joshi Jethalal Biography In Hindi

Dilip Joshi's (jethalal) Biography In Hindi

दिलीप जोशी ( जेठालाल) की जीवनी

तारक मेहता का उल्टा चश्मा,एक ऐसा शो जिसने पूरा भारत को 12 वर्षों से एक धागे में पिरो के रखा है यानी एक ऐसा शो जिसे पूरे देश के हर घर में देखा जाता है।

दोस्तों यह शो उस समय आया था जब टेलीविजन पर (छोटे पर्दे पर) कॉमेडी के नाम पर ना के बराबर कुछ हो पाता था। उस समय तक मुख्यत: बॉलीवुड की फिल्मों तक ही कॉमेडी सीमित थी अथवा कॉमेडी यदि छोटे पर्दे पर होती भी तो वह उतनी मजेदार न थी।
Dilip Joshi Biography In Hindi
Dilop Joshi's Biography In Hindi

ऐसे समय में असित कुमार मोदी जी ने "तारक मेहता का उल्टा चश्मा" को बनाने का निश्चय किया और देखते ही देखते यह शो इतना पॉपुलर हो गया कि यह देश का number 1 शो बन गया।


इस शो के इतना प्रसिद्ध होने के पीछे सबसे बड़ी भूमिका निभाई जेठालाल गड़ा यानी दिलीप जोशी जी ने । इनके कमाल के अभिनय के दम पर ही यह शो इतना पॉपुलर हुआ।
आज हम इन्हीं के बारे में बात करेंगे ।

जन्म - 1968
पढ़ाई - बी कॉम
पॉपुलर शो - तारक मेहता का उल्टा चश्मा
पत्नी - जयमाला जोशी
पुत्र/पुत्री - नियति जोशी (पुत्री) , रित्विक जोशी (पुत्र)
Dilip Joshi Biography In Hindi
dilip Joshi's wife Jaimala Joshi


दिलीप जोशी का शुरुआती जीवन

दोस्तों दिलीप जी का जन्म 26 मई 1968 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ। केवल 12 वर्ष की उम्र में उन्होंने अपने स्कूल के एक नाटक में काम किया और वहीं से उनको एक्टिंग का चस्का चढ़ गया।

उन्होंने कुछ सालों तक गुजराती नाटकों में काम किया  और उसके बाद वे अपनी पढ़ाई के लिए मुंबई आए मुंबई में एन एम कामर्स कॉलेज से b . com किया ।

अपने कॉलेज के दिनों में वे अपने कॉलेज में भी किसी सुपर स्टार से कम नहीं थे ऐसा इसलिए था क्योंकि अपने कॉलेज को उन्होंने कई बार नाटकों में जिताया था ।

कॉलेज लाइफ के दौरान ही इनको (आई एन टी ) इंडियन नेशनल थियेटर द्वारा बेस्ट एक्टर का अवार्ड लगातार 3 बार प्रदान किया गया।

दिलीप जोशी का कैरियर

कॉलेज से निकलने के बाद उनका विचार फिल्मों में जाने का था,इसलिए उन्होंने कई जगहों पर ऑडिशन देना शुरू किया ।
सन् 1989 में जब सूरज बड़जात्या मैंने प्यार किया फिल्म बना रहे थे उस दौरान दिलीप जोशी को अपना  पहला रोले मिला जो कि था रामू नौकर का ।

यह फिल्म सुपर हिट हुई और इसने सलमान खान और सूरज बड़जात्या को बहुत सफलता दिलाई लेकिन दिलीप जी के लिए यह कुछ काम न कर सकी।

इसके बाद फिर उनका स्ट्रगल शुरू हो गया और 1992 में उनको एक और फिल्म मिली जो कि एक गुजराती फिल्म थी । इस फिल्म का नाम हूं हुंशी हुंशिलाल था। इसके निर्माता संजीव शाह जी थे। इस फिल्म में दिलीप जी ने हुंशिलाल का रोल अदा किया।

1994 में सूरज बड़जात्या एक और फिल्म पर काम कर रहे थे जो कि उस समय की सबसे ज्यादा लोकप्रिय फिल्म साबित हुई वह थी - हम आपके हैं कौन इस फिल्म में दिलीप जी को भोला का रोल मिला जो कि बहुत ज्यादा प्रसिद्ध हुआ ।

इस फिल्म से दिलीप जी को कुछ खास फायदा नहीं हुआ क्योंकि सरा क्रेडिट फिर से मुख्य पात्रों को मिला
और इसी के साथ दिलीप जी का स्ट्रगल फिर से शुरू हो गया ।
दिलीप जी ने कुछ फिल्मों में छोटे छोटे रोल किए जो कि कुछ ही सेकंड्स के थे।
अब दिलीप जी ने छोटे पर्दे यानी सीरियल का रुख किया ।

1995 में कभी ये कभी वो,1997 में क्या बात है,1998 से 2005 तक दिलीप जोशी जी ने  कोरा कागज , दाल में काला ,शुभ मंगल सावधान,हम सब बाराती, हम सब एक हैं और भी कई सारे सीरियलों में  काम किया और टेलीविजन में नेटवर्क बना लिया।

साथ ही साथ दिलीप जी ने फिल्मों का काम भी नहीं छोड़ा और ऑडिशन देते रहे ,इसी बीच दिलीप जी ने कुछ फिल्मों में भी काम किया।

दिलीप जोशी की फिल्में :


1996 - यश
 1999 - सर आंखों पर
 2000- फिर भी दिल है , हन्दुस्तानी खिलाड़ी 420
2001- वन टू का फोर
 2002- दिल है तुम्हारा
2008- फ़िराक़ डॉन मुत्तु स्वामी
2009- what's your rashee? और ढूंढते रह जाओगे ।

अपने एक इंटरव्यू में दिलीप जी ने बताया कि 2008 से पहले एक डेढ़ साल तक दिलीप जी के पास कोई काम नहीं था।
  2008 में असित कुमार मोदी तारक मेहता का उल्टा
चश्मा पर काम कर रहे थे ।इस सीरियल के लिए उन्होंने दिलीप जी को चंपकलाल गड़ा यानी जेठालाल के पिता का रोल ऑफर किया ।
Dilip Joshi Biography In Hindi
Jethalal Biography In Hindi


दिलीप जी  जेठालाल का रोल करना चाहते थे इसलिए उन्होंने असित कुमार मोदी को यह बात बताई और असित साहब ने उनका जेठालाल के रोल के लिए ऑडिशन लिए और उनका रोल confirm हो
गया।
और इसी समय दिलीप जी की किस्मत पलट गई।
बहुत ही जल्द यह शो छोटे पर्दे का सबसे लोकप्रय शो
बन गया ।

जेठालाल का किरदार बहुत ही जल्द लोगों के दिलों को छू गया और दिलीप जी को आखिरकार सफलता हासिल हुई।
शो के हिट होने के बाद इसने बहुत सारी बुलंदियों को छुआ और कई सारे रेकॉर्ड्स भी कायम किए ।

दिलीप जोशी के पुरस्कार और सम्मान:

(Dilip Joshi awards in Hindi )

अपने एक्टिंग और हुनर के बलबूते पर दिलीप जी ( जेठालाल ) को लगातार 2009 से Indian Telly Awards, Boroplus Gold Awards ,people's
 Choice Awards etc. में हर बार बेस्ट कॉमेडी रोल के लिए winner चुना गया।

आज 2020 में इस सीरियल को 12 साल पूरे हो चुके हैं और आज भी यह शो इतना ही लोकप्रिय है जितना कि पहले हुआ करता था।

Dilip Joshi salary:

दोस्तों वैसे तो दिलीप जी की सैलरी कितनी है या वे एक एपिसोड के लिए कितने रुपए लेते है यह बताना तो  मुश्किल है लेकिन मोटे तौर पर  एक एपिसोड के 1.5 लाख रुपए तक उनकी सैलरी हो सकती है ।

You may Also Like :



Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

सी वी रमन जीवनी Biography Of C V Raman In Hindi

    Biography Of C V Raman In Hindi सी वी रमन की जीवनी                    सी वी रमन:भौतिक विज्ञानी सी वी रमन जीवनी C V Raman का शुरुआती जीवन चंद्रशेखर वेंकट रमन का जन्म 7 नवंबर, 1888 को मद्रास प्रेसिडेंसी, ब्रिटिश भारत के त्रिचिनीपोली शहर में हुआ था। आज यह शहर तिरुचिनापल्ली के नाम से जाना जाता है और भारत के तमिलनाडू राज्य में स्थित है। रमन के पिता चंद्रशेखरन रामनाथन अय्यर थे, जो गणित और भौतिकी के शिक्षक थे। उनकी मां पार्वती अम्मल थीं, जिन्हें उनके पति ने पढ़ना और लिखना सिखाया था। रमन के जन्म के समय, परिवार कम आय पर रहता था। रमन आठ बच्चों में से दूसरे थे। रमन का परिवार ब्राह्मण था, जो पुजारियों और विद्वानों की हिंदू जाति के थे।  हालाँकि, उनके पिता ने धार्मिक मामलों पर बहुत कम ध्यान दिया । रमन अपने पिता की तरह नहीं थे  उन्होंने कुछ हिंदू रीति-रिवाजों का पालन अच्छे तरीके से किया और शाकाहार जैसी परंपराओं का सम्मान किया। जब रमन चार साल के थे, तब उनके पिता को एक अच्छी नौकरी मिल गई, कॉलेज लेक्चरर बन गए और उसी वर्ष वे अपने परिवार सहित वाल्टेयर (अब विशाखापत्तनम) चले गए। बचप

स्वामी विवेकानंद की जीवनी Biography Of Swami Vivekananda In Hindi

 उठो जागो और लक्ष्य प्राप्ति तक मत रुको ! यह कथन था स्वामी विवेकानंद जी का। स्वामी विवेकानन्द ने अपना सम्पूर्ण जीवन भारत देश की सभ्यता एवं संस्कृति को विश्व के सम्मुख एक नई पहचान दिलाने में बिता दिया। उन्होंने जीवन भर सनातन धर्म की सेवा की और अपने सभी शिष्यों को भी यही सीख दी। स्वामी विवेकानंद का संक्षिप्त जीवन परिचय - मूल नाम - नरेंद्र अथवा नरेन ; जन्म - 12 जनवरी 1863 ; जन्म स्थान - कलकत्ता (प. बंगाल); पिता - विश्वनाथ दत्त ; माता - भुवनेश्वरी देवी ; शिक्षा - बी. ए. ; भाई - बहन - नौ (9) ; पत्नी - अविवाहित रहे ; संदेश - उत्तिष्ठत जाग्रत प्राप्य वरान्निबोधत ! ; स्वामी विवेकानन्द का आरंभिक जीवन : स्वामी विवेकानन्द जी का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में हुआ था। इनके पिता का नाम विश्वनाथ दत्त था, जो कि एक वकील थे ।इनकी माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था, वह गृहणी थीं। स्वामी विवेकानंद जी का नाम नरेंद्र नाथ दत्त रखा गया था। नरेंद्र की माता भगवान शिव की बहुत बड़ी भक्त थीं जबकि इनके पिता पश्चिमी विचारधारा के समर्थक थे। बचपन से ही नरेंद्र कुशाग्र बुद्धि के थे साथ ही वे बड़े शरारती भी थे, उनकी मात