Skip to main content

Akbar Birbal Stories in Hindi अकबर बीरबल की कहानी

अकबर बीरबल की कहानियां

बादशाह अकबर के दरबार में एक बार एक आदमी दूसरे शहर से आया वह एक पंडित था और बुद्धिमान भी।

बादशाह अकबर ने उसका स्वागत किया और उसके आने का कारण पूछा तो उसने बताया कि वह अकबर के दरबार में उपस्थित सभी बुद्धिमान लोगों को चुनौती देना चाहता है।

Akbar Birbal Stories in Hindi
image by -adobe


अकबर खुश हुआ क्योंकि उसे अपने दरबारियों की परीक्षा लेना अच्छा लगता था ,इसलिए अकबर ने उसे अनुमति दे दी।

दरबारी थोड़ा डर गए क्योंकि सबसे बुद्धिमान व्यक्ति यानी बीरबल अभी तक दरबार में नहीं आए थे। फिर भी बादशाह की शान रखने के लिए उन्होंने चुनौती स्वीकार कर ली।

उस पंडित ने कहा मैं आप सबसे कुछ प्रश्न पूछूंगा और जो व्यक्ति सारे प्रश्नों के उत्तर दे देगा वही सबसे बुद्धिमान माना जाएगा।

दरबारी उत्साहित थे और डरे हुए भी थे।

पंडित ने पहला प्रश्न पूछा - सबसे तेज गति किसकी होती है?
दरबारियों ने उत्तर दिया - मन की गति।

अकबर खुश हुआ और दरबारियों को लगा कि यह सारे प्रश्न इसी प्रकार के पूछेगा जिनके उत्तर उन्हें पता हैं।

पंडित ने दूसरा प्रश्न पूछा - वह कौन है जो अंधेरे में साथ छोड़ देता है ?
प्रश्न थोड़ा जटिल था लेकिन दरबारियों ने कुछ देर तक सोचने के बाद उत्तर दिया - "व्यक्ति की परछाई।"

अब तक बीरबल भी आ चुके थे और अब वह भी प्रतियोगिता में शामिल हो गए थे।

अब पण्डित ने पूछा कि इस पूरी दुनिया की कुल आबादी कितनी है?
बीरबल बोले - जितने बाल जहांपनाह के सिर और दाढ़ी के कुल मिलाकर हैं ठीक इतने ही लोग दुनिया में हैं।

फिर प्रश्न आया - पूरे ब्रह्मांड में कितने ग्रह और नक्षत्र (तारे ) हैं ?
बीरबल चतुर थे इसलिए बोल पड़े - 100 किलो गेहूं में जितने दाने होते हैं उतने ही तारे और ग्रह पूरे ब्रह्माण्ड में हैं।

पंडित बीरबल की चतुराई से बहुत प्रभावित हुआ लेकिन अभी तक वह संतुष्ट नहीं था। इसलिए उसने प्रश्नों को और कठिन करने का निश्चय किया।
पंडित ने कुछ समय तक सोचा और पूछा - दुनिया में सबसे निशचिंत कौन होता है?
उत्तर मिला - एक शिशु , उसे कोई चिंता नहीं होती वा हमेशा अपनी बाल लीलाओं में लीन रहता है उसे ना रोटी की चिंता है
ना घर की वह एक वैरागी सन्यासी से भी अधिक निश्चिन्त होता है।

पंडित समझ चुका था कि बीरबल हो हरा पाना मुश्किल है इसलिए उसने कहा कि आज के लिए इतना ही कुछ प्रश्न कल किए जाएंगे।

अकबर खुश था कि बीरबल जैसा बुद्धिमान उसके दरबार में था।

 अगले दिन फिर दरबार लगा और फिर पंडित उपस्थित हुए अब उसने सोच रखा था कि आज वह बीरबल को हरा ही देगा इसलिए उसने केवल एक ही प्रश्न सोच रखा था और उसे यकीन था कि बीरबल उसका उत्तर नहीं दे सकेगा।
उसने अकबर को यह प्रश्न पहले ही बता दिया था इसलिए
उसने बादशाह हो यह प्रश्न पूछने को कहा ।

अकबर ने पूछा बीरबल यह प्रश्न सिर्फ तुम्हारे लिए ही है ।
बताओ कि हमारे राज्य में देख सकने वाले ज्यादा हैं या ना देख सकने वाले ।

यह प्रश्न सुनकर सभी दरबारी हंसने लगे और बोले यह तो बहुत आसान है निश्चित रूप से देख सकने वाले लोग अधिक होंगे,क्योंकि अंधे तो कुछ ही ही सकते हैं।

बीरबल ने कुछ देर सोचा और बोला महाराज मुझे एक बिन बना चारपाई और दो आदमी दे दो।

अकबर ने ऐसा ही किया बीरबल ने कहा बादशाह मैं दिन तक उत्तर लेकर आपके सामने आ जाऊंगा।

बीरबल शहर के ठीक बीच में एक चौराहे पर मुख्य रास्ते के किनारे बैठ गए और वहां पर उस चारपाई को बुनने लगे और साथ में बैठे दोनों आदमियों को कहा कि जो कोई भी यहां आए और प्रश्न करे उसका नाम लिख लें।

वहां पर कुछ ही समय में बहुत भीड़ हो गई और हर आदमी यही पूछ रहा था कि बीरबल यह आप क्या कर रहे हैं?

दोपहर तक वहां पर कई लोग आए और प्रश्न करके चले गए बीरबल ने किसी का उत्तर नहीं दिया लेकिन सबका नाम जरूर लिखवा लिया।

दोपहर से शाम होने वाली थी लेकिन बीरबल का कोई पता नहीं था तो अकबर खुद वहां चले गए और जाते ही उन्होंने पूछा - बीरबल यह तुम क्या कर रहे हो?

बीरबल ने उन दिनों आदमियों से कहा कि इस सूची में जहापनाह का नाम भी जोड़ दो।

अब बीरबल ने वह सूची ली और उस पर ऊपर से लिख दिया ना देख सकने वाले लोग।

अकबर को जब यह पर चला कि बीरबल ने ऐसा किया है तो उसे आश्चर्य हुआ उसने बीरबल से कहा यह क्या पहेली है
बीरबल बोले महाराज ! पण्डित जी ने कहा था कि देख सकने और ना देख सकने वालों का पता लगाना है ना कि अंधो का।

यहां पर जितने भी लोग आए सभी देख पा रहे थे कि मैं चारपाई बुन रहा हूं लेकिन हर  आदमी ने मुझसे यही पूछा कि मैं क्या कर रहा हूं।

पंडित भी वहां उपस्थित था अत: उसने अब हार मान ली और बीरबल को विजयी घोषित करके उसे प्रणाम किया और चला गया।

अकबर एक बार फिर से बीरबल की चतुराई पर प्रसन्न थे इसलिए उन्होंने बीरबल को बधाई दी और उन्हें उपहार भी दिए।

दोस्तों कहानी अच्छी लगी हो तो कमेंट में जरूर बताएं और अपने दोस्तों के साथ साझा जरूर करें।

Comments

Popular posts from this blog

Dilip Joshi Jethalal Biography In Hindi

Dilip Joshi's (jethalal) Biography In Hindi दिलीप जोशी ( जेठालाल) की जीवनी तारक मेहता का उल्टा चश्मा,एक ऐसा शो जिसने पूरा भारत को 12 वर्षों से एक धागे में पिरो के रखा है यानी एक ऐसा शो जिसे पूरे देश के हर घर में देखा जाता है। दोस्तों यह शो उस समय आया था जब टेलीविजन पर (छोटे पर्दे पर) कॉमेडी के नाम पर ना के बराबर कुछ हो पाता था। उस समय तक मुख्यत: बॉलीवुड की फिल्मों तक ही कॉमेडी सीमित थी अथवा कॉमेडी यदि छोटे पर्दे पर होती भी तो वह उतनी मजेदार न थी। Dilop Joshi's Biography In Hindi ऐसे समय में असित कुमार मोदी जी ने "तारक मेहता का उल्टा चश्मा" को बनाने का निश्चय किया और देखते ही देखते यह शो इतना पॉपुलर हो गया कि यह देश का number 1 शो बन गया। इस शो के इतना प्रसिद्ध होने के पीछे सबसे बड़ी भूमिका निभाई जेठालाल गड़ा यानी दिलीप जोशी जी ने । इनके कमाल के अभिनय के दम पर ही यह शो इतना पॉपुलर हुआ। आज हम इन्हीं के बारे में बात करेंगे । जन्म - 1968 पढ़ाई - बी कॉम पॉपुलर शो - तारक मेहता का उल्टा चश्मा पत्नी - जयमाला जोशी पुत्र/पुत्री - नियति जोशी (पुत्री

सी वी रमन जीवनी Biography Of C V Raman In Hindi

    Biography Of C V Raman In Hindi सी वी रमन की जीवनी                    सी वी रमन:भौतिक विज्ञानी सी वी रमन जीवनी C V Raman का शुरुआती जीवन चंद्रशेखर वेंकट रमन का जन्म 7 नवंबर, 1888 को मद्रास प्रेसिडेंसी, ब्रिटिश भारत के त्रिचिनीपोली शहर में हुआ था। आज यह शहर तिरुचिनापल्ली के नाम से जाना जाता है और भारत के तमिलनाडू राज्य में स्थित है। रमन के पिता चंद्रशेखरन रामनाथन अय्यर थे, जो गणित और भौतिकी के शिक्षक थे। उनकी मां पार्वती अम्मल थीं, जिन्हें उनके पति ने पढ़ना और लिखना सिखाया था। रमन के जन्म के समय, परिवार कम आय पर रहता था। रमन आठ बच्चों में से दूसरे थे। रमन का परिवार ब्राह्मण था, जो पुजारियों और विद्वानों की हिंदू जाति के थे।  हालाँकि, उनके पिता ने धार्मिक मामलों पर बहुत कम ध्यान दिया । रमन अपने पिता की तरह नहीं थे  उन्होंने कुछ हिंदू रीति-रिवाजों का पालन अच्छे तरीके से किया और शाकाहार जैसी परंपराओं का सम्मान किया। जब रमन चार साल के थे, तब उनके पिता को एक अच्छी नौकरी मिल गई, कॉलेज लेक्चरर बन गए और उसी वर्ष वे अपने परिवार सहित वाल्टेयर (अब विशाखापत्तनम) चले गए। बचप

स्वामी विवेकानंद की जीवनी Biography Of Swami Vivekananda In Hindi

 उठो जागो और लक्ष्य प्राप्ति तक मत रुको ! यह कथन था स्वामी विवेकानंद जी का। स्वामी विवेकानन्द ने अपना सम्पूर्ण जीवन भारत देश की सभ्यता एवं संस्कृति को विश्व के सम्मुख एक नई पहचान दिलाने में बिता दिया। उन्होंने जीवन भर सनातन धर्म की सेवा की और अपने सभी शिष्यों को भी यही सीख दी। स्वामी विवेकानंद का संक्षिप्त जीवन परिचय - मूल नाम - नरेंद्र अथवा नरेन ; जन्म - 12 जनवरी 1863 ; जन्म स्थान - कलकत्ता (प. बंगाल); पिता - विश्वनाथ दत्त ; माता - भुवनेश्वरी देवी ; शिक्षा - बी. ए. ; भाई - बहन - नौ (9) ; पत्नी - अविवाहित रहे ; संदेश - उत्तिष्ठत जाग्रत प्राप्य वरान्निबोधत ! ; स्वामी विवेकानन्द का आरंभिक जीवन : स्वामी विवेकानन्द जी का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में हुआ था। इनके पिता का नाम विश्वनाथ दत्त था, जो कि एक वकील थे ।इनकी माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था, वह गृहणी थीं। स्वामी विवेकानंद जी का नाम नरेंद्र नाथ दत्त रखा गया था। नरेंद्र की माता भगवान शिव की बहुत बड़ी भक्त थीं जबकि इनके पिता पश्चिमी विचारधारा के समर्थक थे। बचपन से ही नरेंद्र कुशाग्र बुद्धि के थे साथ ही वे बड़े शरारती भी थे, उनकी मात