التخطي إلى المحتوى الرئيسي

ये मेरा भारत है हिंदी कविता

ये मेरा भारत है हिंदी कविता


दोस्तों भारत और विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र और विश्व का एक उभरता हुआ देश है। भारतीय संस्कृति एवं सभ्यता विश्व की सबसे प्राचीन सभ्यताओं में से एक है।भारत देश के गौरवशाली अतीत की तुलना सोने की चिड़िया से की जाती है। हमारा देश हिमालय की पहाड़ियों से लेकर समुद्र तक फैला हुआ है और इसे भारत माता कहकर भी संबोधित किया जाता है।
भारत माता जिसका मुकुट स्वयं हिमालय है और हिन्द महासागर जिसके चरणों को धोता है ।

भारत कई मामलों में विश्व में कई देशों से आगे है पर आज भी भारत में ऐसी कई समस्याएं व्याप्त है जिनका समाधान किया जाना अनिवार्य है।

भारत की कुछ इन्हीं समस्याओं बताती हुई कविता हम आपके लिए लेकर आए हैं उम्मीद है आप को यह कविता पसंद आएगी।
ये मेरा भारत है हिंदी कविता
ये मेरा भारत है हिंदी कविता




ये मेरा भारत है,
ये मेरा भारत है,
जहां टीवी पे रामायण ,
और सड़कों पर महाभारत है,
 ये मेरा भारत है,
 ये मेरा भारत है।

 जहां नेता भ्रष्टाचारी।
 अफसर घूसखोर है,
जहां शिक्षा में सीखने से ज्यादा ,
रटने पर जोर है।

जहां चापलूसी करने में,
अफसरों को महारत है।
ये मेरा भारत है,
ये मेरा भारत है।।


ये मेरा भारत है हिंदी कविता
ये मेरा भारत है हिंदी कविता


जहां इरादा तो है,
 पर पास नहीं सुविधाएं हैं ।
जहां चेहरे पर शिकन ,
और मन में दुविधाएं  हैं।।

 जहां घूसखोरी अब ,
बनती जा रही आदत है।
 ये मेरा भारत है,
ये मेरा भारत है।।

 कुछ करने का इरादा है ,
पर लाचारी जरा ज्यादा  है।
 जहां अरमान बड़े है दिल में ,
और जीवन सादा है।।

प्रतिभा पर जहां,
 पैसों का वजन भारी है ।
शिक्षक जहां बन चुके,
 शिक्षा के व्यापारी है।।

 गुंडे बदमाशों को जहां,
 नेताओं का संरक्षण है।
 जहां नौकरी से लेकर शिक्षा तक ,
आरक्षण ही आरक्षण है ।।

जहां सीमाओं से ज्यादा ,
अपने ही घर में क्लेश है।
 ऐसा मेरा देश है ।
ऐसा मेरा देश है।।

 पर ऐसा नहीं मेरे देश ने,
 नाम नहीं कमाया है।
विश्व को शून्य  से अवगत,
 मेरे देश ने कराया है।।

 ये देश है गांधी का ,
देश अरविंद घोष का ।
देश विवेकानंद का,
 है देश एससी बोस का।।

जहां के वीर सपूतों को,
 खुद से प्यारा देश है। 
 ऐसा मेरा देश है,
 ऐसा मेरा देश है।।

विश्वास है,
 अंधविश्वास है।
 सब कुछ लुट जाने पर भी,
जहां ईश्वर में विश्वास है ।।

जहां दर दर पर भगवान है ,
और होठों पर इबादत है ।
ये मेरा भारत है,
 ये मेरा भारत है।

परंपराओं का देश है ,
 धार्मिकता का प्रदेश है ।
संस्कृति जिसकी महान है ,
धर्म जिसकी जान है।।

जहां द्रोण जैसे गुरु 
और कर्ण जैसे दानी थे।
अर्जुन जैसे शिष्य
और कृष्ण जैसे ज्ञानी थे।।

तक्षशिला का ज्ञान है
 संस्कृति पर अभिमान है।
 चाहे कितनी भी मुश्किल हो 
मेरा भारत महान है।।

 मेरे देश का हर व्यक्ति
 मुश्किलों से घिरा रहता है ।
हर व्यक्ति के जीवन में  ,
थोड़ा कष्ट तो रहता है,
 फिर भी देश का हर व्यक्ति,
 भारत माता की जय कहता है।
 भारत  माता की जय कहता है।।



You Might Also Like - 






تعليقات

المشاركات الشائعة من هذه المدونة

Dilip Joshi Jethalal Biography In Hindi

Dilip Joshi's (jethalal) Biography In Hindi दिलीप जोशी ( जेठालाल) की जीवनी तारक मेहता का उल्टा चश्मा,एक ऐसा शो जिसने पूरा भारत को 12 वर्षों से एक धागे में पिरो के रखा है यानी एक ऐसा शो जिसे पूरे देश के हर घर में देखा जाता है। दोस्तों यह शो उस समय आया था जब टेलीविजन पर (छोटे पर्दे पर) कॉमेडी के नाम पर ना के बराबर कुछ हो पाता था। उस समय तक मुख्यत: बॉलीवुड की फिल्मों तक ही कॉमेडी सीमित थी अथवा कॉमेडी यदि छोटे पर्दे पर होती भी तो वह उतनी मजेदार न थी। Dilop Joshi's Biography In Hindi ऐसे समय में असित कुमार मोदी जी ने "तारक मेहता का उल्टा चश्मा" को बनाने का निश्चय किया और देखते ही देखते यह शो इतना पॉपुलर हो गया कि यह देश का number 1 शो बन गया। इस शो के इतना प्रसिद्ध होने के पीछे सबसे बड़ी भूमिका निभाई जेठालाल गड़ा यानी दिलीप जोशी जी ने । इनके कमाल के अभिनय के दम पर ही यह शो इतना पॉपुलर हुआ। आज हम इन्हीं के बारे में बात करेंगे । जन्म - 1968 पढ़ाई - बी कॉम पॉपुलर शो - तारक मेहता का उल्टा चश्मा पत्नी - जयमाला जोशी पुत्र/पुत्री - नियति जोशी (पुत्री

सी वी रमन जीवनी Biography Of C V Raman In Hindi

    Biography Of C V Raman In Hindi सी वी रमन की जीवनी                    सी वी रमन:भौतिक विज्ञानी सी वी रमन जीवनी C V Raman का शुरुआती जीवन चंद्रशेखर वेंकट रमन का जन्म 7 नवंबर, 1888 को मद्रास प्रेसिडेंसी, ब्रिटिश भारत के त्रिचिनीपोली शहर में हुआ था। आज यह शहर तिरुचिनापल्ली के नाम से जाना जाता है और भारत के तमिलनाडू राज्य में स्थित है। रमन के पिता चंद्रशेखरन रामनाथन अय्यर थे, जो गणित और भौतिकी के शिक्षक थे। उनकी मां पार्वती अम्मल थीं, जिन्हें उनके पति ने पढ़ना और लिखना सिखाया था। रमन के जन्म के समय, परिवार कम आय पर रहता था। रमन आठ बच्चों में से दूसरे थे। रमन का परिवार ब्राह्मण था, जो पुजारियों और विद्वानों की हिंदू जाति के थे।  हालाँकि, उनके पिता ने धार्मिक मामलों पर बहुत कम ध्यान दिया । रमन अपने पिता की तरह नहीं थे  उन्होंने कुछ हिंदू रीति-रिवाजों का पालन अच्छे तरीके से किया और शाकाहार जैसी परंपराओं का सम्मान किया। जब रमन चार साल के थे, तब उनके पिता को एक अच्छी नौकरी मिल गई, कॉलेज लेक्चरर बन गए और उसी वर्ष वे अपने परिवार सहित वाल्टेयर (अब विशाखापत्तनम) चले गए। बचप

स्वामी विवेकानंद की जीवनी Biography Of Swami Vivekananda In Hindi

 उठो जागो और लक्ष्य प्राप्ति तक मत रुको ! यह कथन था स्वामी विवेकानंद जी का। स्वामी विवेकानन्द ने अपना सम्पूर्ण जीवन भारत देश की सभ्यता एवं संस्कृति को विश्व के सम्मुख एक नई पहचान दिलाने में बिता दिया। उन्होंने जीवन भर सनातन धर्म की सेवा की और अपने सभी शिष्यों को भी यही सीख दी। स्वामी विवेकानंद का संक्षिप्त जीवन परिचय - मूल नाम - नरेंद्र अथवा नरेन ; जन्म - 12 जनवरी 1863 ; जन्म स्थान - कलकत्ता (प. बंगाल); पिता - विश्वनाथ दत्त ; माता - भुवनेश्वरी देवी ; शिक्षा - बी. ए. ; भाई - बहन - नौ (9) ; पत्नी - अविवाहित रहे ; संदेश - उत्तिष्ठत जाग्रत प्राप्य वरान्निबोधत ! ; स्वामी विवेकानन्द का आरंभिक जीवन : स्वामी विवेकानन्द जी का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में हुआ था। इनके पिता का नाम विश्वनाथ दत्त था, जो कि एक वकील थे ।इनकी माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था, वह गृहणी थीं। स्वामी विवेकानंद जी का नाम नरेंद्र नाथ दत्त रखा गया था। नरेंद्र की माता भगवान शिव की बहुत बड़ी भक्त थीं जबकि इनके पिता पश्चिमी विचारधारा के समर्थक थे। बचपन से ही नरेंद्र कुशाग्र बुद्धि के थे साथ ही वे बड़े शरारती भी थे, उनकी मात