Skip to main content

शेखर और बिनोद की कहानी Hindi Moral Story

         शेखर और बिनोद की कहानी Hindi Moral story


Hindi Moral Story
शेखर और बिनोद की कहानी Hindi Moral Story


नमस्कार दोस्तों स्वागत है आप सभी का kahanistation पर और आज हम आपके लिए लेकर आए हैं दो दोस्तों की कहानी जो जिंदगी के सफ़र में अपने मुकाम तक पहुंचने के लिए अलग अलग रास्तों को चुनते हैं। 

ये कहानी है दो उन दोस्तों की, जो एक माध्यम वर्गीय परिवार यानी मिडिल क्लास फैमिली से वास्ता रखते है। दोनों को अपने अपने परिवार की  आर्थिक स्थिति का  अनुमान भली-भांति है।


 कहानी  उन दो दोस्तों की है ,जिनमें से एक का नाम शेखर वह दूसरे का नाम बिनोद है। दोनों बहुत ही अच्छे दोस्त हैं। दोनों का स्कूल जाना खाना पीना लगभग साथ में ही होता था।



 दोनों में से शेखर समझदार व बिनोद कुछ चंचल था।शेखर हर बात को समझदारी से तथा बिनोद हर बात को लगभग मजाक में ही लेता था। फिर भी दोनों घनिष्ठ मित्र थे। वे हमेशा एक दूसरे के हित में ही सोचते थे और एक दूसरे का खयाल रखते थे।


 दोनों को घर से जेब खर्च के रूप में मात्र कुछ ही रुपए मिलते थे, जिसका उपयोग शेखर अपनी आवश्यकता के लिए उन पैसों को बचा कर रखता जबकि बिनोद अपनी छोटी मोटी मौज-मस्ती में उड़ा देता था।

Moral Stories In Hindi For Class 5

 जब भी किशोर फालतू खर्च करता तो शेखर उसे समझाता था कि हम किसी अमीर घर से नहीं हैं और हमारे माता - पिता अधिक समृद्ध नहीं हैं जो हम पैसे ऐसे ही उड़ा दें तो जवाब में बिनोद कहता था कि यह तो छोटी मोटी रकम है,मुझे तो एक दिन बहुत बड़ा आदमी बन जाना है और फिर मेरे पास बहुत पैसे हो जाएंगे।

  शेखर उसे हमेशा कहता था कि अमीर बनना है तो उसके लिए हमें आज से ही मेहनत करनी होगी।


 जवाब में बिनोद कहता कि मुझे तो बस कुछ ही चंद समय में अमीर बन जाना है और तू भी मेरे साथ अमीर बन सकता है।

 धीरे-धीरे समय बीतता गया और दोनों के स्कूल की पढ़ाई भी खत्म हो गई थी आगे की पढ़ाई के लिए दोनों को शहर जाना था।दोनों के परिवार में भी अच्छे रिश्ते थे तो दोनों एक साथ रहने लगे लगे। 

कॉलेज की पढ़ाई में शेखर का कुछ अच्छा मन लगता ,वही बिनोद सोचता कि पढ़ाई ना करूं कुछ और करूं जिससे वह कुछ ही समय में अमीर बन सके। 


अब शेखर की बात का बिनोद पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ रहा था।बिनोद के मन में बस अमीर बनने का ख्याल ही चलता रहता था।

और अब तो अमीर बनने के लिए कुछ भी कर सकता था। एक दिन जब दोनों बस से कहीं जा रहे थे तो बिनोद को किसी का पर्स (बटुआ) गिरा हुआ मिल गया।


बिनोद के मन में लालच आ गया और उसने किसी को भी नहीं बताया कि उसे पर्स (बटुआ) मिला है। यहां तक कि उसने अपने घनिष्ठ मित्र शेखर को भी यह बात नहीं बताई। उससे भी यह बात छुपा कर रखी। 


जब घर जाकर बिनोद ने अकेले में बटुए को खोला तो उसे एक बड़ी रकम मिली जो उसने आज तक शायद ही कभी  देखी थी। धीरे धीरे बिनोद ने यह सोचा कि अब वह  हमेशा बस का सफर ही करेगा ताकि उसे ऐसे बटुए गिरे हुए मिलते रहे।


शेखर भी अपनी पढ़ाई में लग चुका था।और उसने ठान लिया था, कि वह भी कुछ भला अफसर ही बनेगा। वहीं दूसरी ओर बिनोद को भी समझाता था कि भाई तू भी पढ़ हमें अपने परिवार को अच्छा पालन देना है आखिर परिवार की जिम्मेदारी हमारे कंधों पर आने वाली है।


लेकिन बिनोद को अब पढ़ाई में कोई भी रुचि नहीं थी।उसके सर पर बस अमीर बनने का भूत सवार था। बिनोद ने भी सोच लिया था कि वह अब कुछ नौकरी करेगा। पढ़ाई वैसे भी उससे अब होती नहीं।

तो बिनोद अब नौकरी ढूंढने चला।लेकिन उसकी उम्र के अनुसार उसे कोई भी नौकरी नहीं मिली फिर बड़ी मुश्किल से उसे एक बस में कंडक्टर की नौकरी मिली।


अब वह सोचता था कि हर महीने उसके पास भी कुछ पैसे होंगे जिससे वह धीरे धीरे तो अमीर बनने के रास्ते पर आ चुका होगा। लेकिन पढ़ाई छोड़ने के साथ-साथ बिनोद की समझदारी भी छूटती जा रही थी।इसलिए अब वह शेखर की कोई भी बात समझता ही नहीं था।

बिनोद को काम करते करते चार साल हो चुके थे और अब तक शेख़र अपनी पढ़ाई पूरी कर एक अच्छी सी सरकारी नौकरी पर लग चुका था।जहां उसे अफसर का पद प्राप्त था।


लेकिन बिनोद अभी भी कंडक्टर का काम ही कर रहा था।जिससे वह अब ऊब चुका था। उसे लगा कि उसे भी पढ़ाई करनी चाहिए थी लेकिन अमीर बनने का भूत सवार उसके सर पर अभी भी था। 


तो  एक दिन बिनोद की नजर किसी यात्री के बटुए पर पड़ी, जो अच्छा खासा मोटा दिख रहा था। तो बिनोद ने सोचा क्यों न मैं एक हाथ मार ही लूं तो बिनोद ने वह पर्स (बटुआ) चोरी कर दिया। बिनोद को उस आदमी के पर्स से आठ हजार रुपए मिल गए। वह खुश था।अब वह आए दिन यात्रियों का बटुआ चोरी करने लगा लेकिन वह मिलने वाले पैसे को जल्द ही खर्च कर देता था वह अब शराब भी पीने लगा था जिसमें वह चोरी का सारा रुपया लगा देता था।


 वह फिर भी यही सोचता रहा कि किसी दिन जब मोटी रकम हाथ लगेगी तो वह उसे नहीं खर्चेगा। वहीं दूसरी ओर शेखर अपने काम में इतना सफल हो चुका कि उसको तीन बार प्रोमोशन मिल गया था।


अब बिनोद और शेखर का मिलना भी कभी-कभी होता था।वह भी अब अपने कार्यालय के काम में व्यस्त ही रहता था।

 
एक दिन बिनोद के मन में विचार आया कि छोटी-छोटी चोरी कर वह अमीर तो बन नहीं सकता। क्यों ना कहीं एक बड़ा हाथ मारा जाए। 


इसके लिए बिनोद ने एक अमीर जमीदार का घर तय किया।
 वह अब उस घर में चोरी करेगा और रातों-रात अमीर बन जाएगा। फिर बिनोद ने ऐसी योजना बनाई कि वह रात को जमीदार के घर जाकर सारा पैसा और सोना चुरा लेगा तथा अमीर बन जाएगा। 

जैसे रात हुई बिनोद जमीदार के घर पहुंच गया चोरी के मकसद से। जब वो चोरी करने के बाद  अंतिम में भागने की तैयारी करने लगा तो बिनोद को चौकीदार ने पकड़ लिया। तथा पुलिस के हवाले कर दिया अब बिनोद का जेल  से निकलना मुश्किल ही था।

 फिर जैसे तैसे शेखर के कानो खबर लगी कि उसका बचपन का दोस्त चोरी के गुनाह में जेल में है, तो उसने सोचा कि अब अपने दोस्त को जेल से बाहर तो निकालना ही पड़ेगा आखिर दोस्त है वो मेरा।


तो उसने अपने दोस्त की जमानत करवाई । जब दोनों जेल से आ रहे थे तो बिनोद बहुत शर्मिंदा था।बिनोद शेखर से माफी मांगने लगा। 


फिर शेखर ने बिनोद को समझाया कि देख भाई मैं तुझे बचपन से समझाता आया हूं कि सफलता धीरे-धीरे मेहनत करने से मिलती है।कुछ ही समय में कोई भी सफल नहीं होता।सफलता के लिए कड़ी मेहनत करना जरूरी है। 

अब जब बिनोद को यह बात समझ आई तो उसने अपने दोस्त से वादा किया कि वह भविष्य में कभी भी चोरी नहीं करेगा और अब कुछ अच्छा काम करके मेहनत करेगा और सफल बनेगा।


शिक्षा:   कहानी से हमे यह सीख मिलती है,कि यदि हमें सफल होना है तो हमे उस सफलता को पाने के लिए हमको मेहनत करनी पड़ेगी। क्योंकि सफलता वह मंजिल है जिसका रास्ता केवल मेहनत से हो कर जाता है।
You Might Also Like -

Comments

  1. Shekhar Aur Binod ??
    Phir se पिंकू कुमार ji ke saath anyaay
    #JusticeForपिंकू-कुमार
    Joke Bhaiya... Really Nice Story,,,

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुनील गावस्कर का जीवन परिचय Sunil Gavaskar Biography In Hindi

सुनील गावस्कर का जीवन परिचय (Sunil Gavaskar Biography In Hindi)  सुनील गावस्कर पूर्व भारतीय क्रिकेटर हैं, वे अपने समय के महान बल्लेबाज रहे । उन्हें लिटिल मास्टर कहकर पुकारा जाता है। सुनील गावस्कर का आरंभिक जीवन : सुनील गावस्कर का जन्म 10 जुलाई 1949 को मुंबई में हुआ था। इनके पिता का नाम मनोहर गावस्कर , और माता का नाम मीनल गावस्कर था। उनकी 2 बहनों के नाम नूतन गावस्कर और कविता विश्वनाथ हैं। बचपन में सुनील गावस्कर प्रसिद्ध पहलवान मारुति वाडर के बहुत बड़े फैन थे और उन्हें देखकर सुनील भी एक पहलवान बनना चाहते थे, लेकिन अपने स्कूल के समय से ही सुनील क्रिकेटप्रेमी भी रहे , उन्होंने कई बार लोगों का ध्यान अपनी प्रतिभा की ओर आकर्षित किया था। 1966 में सुनील गावस्कर ने रणजी ट्रॉफी में डेब्यू किया।रणजी ट्रॉफी टूर्नामेंट में  सुनील गावस्कर ने कर्नाटक की टीम के खिलाफ दोहरा शतक जड़ दिया। सुनील गावस्कर का अंतराष्ट्रीय टेस्ट कैरियर : 1971 में सुनील गावस्कर का चयन भारतीय क्रिकेट टीम में वेस्ट इंडीज के खिलाफ टेस्ट मैच में खेलने के लिए हुआ।सुनील गावस्कर अपने समय के बहुत बड़े और महान बल्लेबाज थे। अपने पूरे कर

रोहित शर्मा का जीवन परिचय Rohit Sharma Biography In Hindi

 रोहित शर्मा का जीवन परिचय  (Rohit Sharma Biography In Hindi) रोहित शर्मा भारतीय क्रिकेट टीम के उपकप्तान और ओपनर बल्लेबाज हैं, रोहित को hit-man के नाम से जाना जाता है। IPL में सबसे सफल कप्तान का खिताब भी रोहित के पास ही है,  रोहित शर्मा अब तक 5 बार IPL की ट्रॉफी मुंबई इंडियंस के लिए जीत चुके हैं। रोहित शर्मा का प्रारंभिक जीवन : रोहित का जन्म 30 अप्रैल 1987 को नागपुर में हुआ था। उनकी माता का नाम पूर्णिमा और उनके पिता का नाम गुरुनाथ शर्मा है , रोहित शर्मा के पिता एक ट्रांसपोर्ट फार्म में काम करते थे, उनकी आर्थिक स्थिति कुछ खास अच्छी नहीं थी।रोहित बचपन से ही क्रिकेट के शौकीन थे। 1999 में रोहित ने क्रिकेट एकेडमी में प्रवेश लिया। दिनेश लाड क्रिकेट अकेमेडी में उनके कोच थे।रोहित के कोच दिनेश लाड ने रोहित को उनके क्रिकेट को निखारने के लिए उन्हें अपना स्कूल बदलने की सलाह दी और उन्हें स्वामी विवेकानंद इंटरनेशनल स्कूल में प्रवेश लेने का सुझाव दिया, परंतु रोहित की आर्थिक स्थिति इतनी मजबूत न थी कि वे स्कूल की फीस भर सकें। अतः रोहित की मदद के लिए उनके कोच ने रोहित को स्कॉलरशिप दिलाई ,जिससे कि उनकी

पंडित जवाहर लाल नेहरु की जीवनी Jawahar Lal Nehru Biography in Hindi

  पंडित जवाहर लाल नहरू भारत के पहले प्रधानमंत्री और प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे ।  पंडित जवाहर लाल नेहरु को  आधुनिक भारतीय राष्ट्र-राज्य – एक सम्प्रभु, समाजवादी, धर्मनिरपेक्ष, और लोकतान्त्रिक गणतन्त्र  के वास्तुकार माना जाता  हैं। पंडित नेहरू को एक कुशल लेखक के रूप में जाना जाता है । नेहरू जी को बच्चों से बहुत लगाव था । बच्चे इन्हें चाचा नेहरू कहकर पुकारते थे । पंडित नेहरु के जन्मदिवस (14 नवम्बर)  बाल-दिवस के रूप में मनाया जाता है । पंडित नेहरु का आरंभिक जीवन : पंडित जवाहर लाल नेहरु का जन्म  14 नवंबर 1889 इलाहबाद, में हुआ था ।इनके पिता का नाम मोतीलाल नेहरु था ,और माता का नाम स्वरूपरानी देवी था । पंडित नेहरु तीन भाई बहनों में सबसे बड़े थे , इनकी दो छोटी बहनें (विजया लक्ष्मी और कृष्णा  हठीसिंग ) थी । पंडित जवाहर लाल नेहरू एक संपन्न परिवार से आते थे, अतः इनकी शिक्षा भी आचे विद्यालयों और कॉलेजों से हुई । प्रारंभिक शिक्षा के लिए पंडित नेहरू लन्दन स्थित हैरो स्कूल गए,  तथा कॉलेज की पढाई के लिए  ट्रिनिटी कॉलेज, लंदन गए । पंडित जवाहर लाल नेहरु ने अपनी वकालत की डिग्री  कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय  स