Skip to main content

सचिन तेंदुलकर जीवनी Sachin Tendulkar Biography In Hindi

Sachin Tendulkar Biography In Hindi

 सचिन तेंदुलकर जीवनी  

सचिन तेंदुलकर एक ऐसा नाम जिसने भारत में क्रिकेट को एक नया युग दिखाया। एक ऐसा नाम जिसके आउट होने पर आधे से अधिक लोग टीवी बंद कर देते थे। क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने भारतीय क्रिकेट को नई ऊंचाई तक पहुंचाया।

आज हम इन्हीं को जीवनी लेकर आए हैं तो नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट kahanistation पर और आज हम बात करेंगे लिटिल मास्टर सचिन तेंदुलकर के बारे में ;

Sachin Tendulkar Biography In Hindi


सचिन तेंदुलकर का शुरुआती जीवन :

सचिन तेंदुलकर का जन्म 24 अप्रैल 1973 को मुंबई ,महाराष्ट्र में हुआ। इनके पिता का नाम रमेश तेंदुलकर था और इनकी माता का नाम रजनी तेंदुलकर था।

सचिन के पिता रमेश तेंदुलकर राज्य प्रसिद्ध लेखक और उपन्यासकार थे , और उनकी माता LIC में बीमा एजेंट के पद पर कार्य करती थीं।

सचिन अपने पिता की दूसरी पत्नी के पुत्र हैं ,सचिन के पिता की पहली पत्नी से 2 पुत्र और 1 पुत्री हैं। उनका नाम अजित , नितिन और सविता हैं। 

 सचिन 4 भाई बहनों में सबसे छोटे हैं।

सचिन के पिता रमेश तेंदुलकर उस समय के प्रसिद्ध संगीत निर्देशक ' सचिन देव बर्मन ' के बहुत बड़े प्रशंसक ( फैन ) थे , इसलिए उन्होंने सचिन का नाम उन्हीं के नाम पर रखा  

सचिन का क्रिकेट से प्रेम बहुत छोटी उम्र से ही था। उन्हें बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक था। सचिन की पढ़ाई में कभी रुचि नहीं थी। सचिन का एडमिशन शारदाश्रम विद्यामंदिर हाई स्कूल में कराया गया, और यहीं से सचिन ने अपने क्रिकेट करियर की कोचिंग शुरू की।

सचिन की पढ़ाई में रुचि ना होने के कारण उन्हें 10वी (दसवीं ) की परीक्षा तीन बार देनी पड़ी।

उसके बाद सचिन ने उच्च शिक्षा के लिए खालसा कॉलेज (मुंबई) में प्रवेश लिया , लेकिन उन्होंने उच्च शिक्षा की पढ़ाई को बीच में ही विराम देकर क्रिकेट पर पूरा ध्यान रखना शुरू किया।

क्रिकेट करियर की शुरुआत :

जब सचिन 12 वर्ष के थे तो तब तक वे अपने मोहल्ले के साथियों के साथ खेला करते थे और सचिन का प्रदर्शन इतना अच्छा था कि उनके बड़े भाई अजीत तेंदुलकर और पिता रमेश तेंदुलकर ने सचिन को ट्रेनिंग देने के लिए कोच रमाकांत आचरेकर से बात की। उनका मानना था कि आचरेकर के प्रशिक्षण के अंदर सचिन अपने खेल को और बेहतर कर पाएंगे।

आचरेकर ने सचिन का प्रदर्शन देखने के लिए उनका एक टेस्ट लिया और सचिन की प्रतिभा को देखकर कोच रमाकांत आचरेकर ने ही सचिन का दाखिला शारदाश्रम विद्यामंदिर में कराने क सुझाव दिया।

कोच रमाकांत आचरेकर सचिन को रोज सुबह और शाम ट्रेनिंग कराते थे, वे सचिन के पहले गुरु बने।

स्कूल की टीम से सचिन ने कई मैच खेले। साथ ही साथ स्थानीय क्लब स्तरों पर अपने खेल की अभूतपूर्व प्रतिभा को दिखाकर अपने क्षेत्र में प्रसिद्धि हासिल कर ली।

सचिन अब 14 वर्ष के हो गए थे , लेकिन उनकी रुचि तेज गेंदबाजी में जागने लगी , इसलिए वे चेन्नई (मद्रास) में स्थित M R F पेस फाउंडेशन में तेज गेंदबाजी सीखने के लिए गए।

 उस समय वहां पर डेनिस लिली जो कि भूतपूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर थे, वो ट्रेनिंग देते थे ; सचिन भी उनसे तेज गेंदबाजी सीखना चाहते थे।

 लेकिन डेनिस लिली ने सचिन को तेज गेंदबाज बनने से मना किया और उन्हें एक बल्लेबाज बनने के लिए प्रेरित किया।

 सचिन ने अपना अभ्यास बल्लेबाजी से साथ साथ गेंदबाजी में भी जारी रखा।

14 नवंबर 1987 को सचिन को मुंबई की तरफ से फर्स्ट क्लास क्रिकेट टीम के लिए चुना गया।

लेकिन उन्हें खेलने का मौका नहीं मिल पाया वे 12वे खिलाड़ी के रूप में खेल रहे थे।

अगले वर्ष सचिन ने 15 साल की उम्र में अपने कैरियर की शुरुआत मुंबई की तरफ से खेलते हुए गुजरात की टीम के खिलाफ की , और इस मैच में उन्होंने नाबाद शतक बनाया।

 इसी मैच में सचिन घरेलू क्रिकेट में शतक बनाने वाले सबसे युवा खिलाड़ी बन गए।

इस टूर्नामेंट में सचिन मुंबई की तरफ से सबसे अधिक रन बनाने वाले युवा बल्लेबाज थे।

अगले साल 1989 में सचिन ने ईरानी कप में भी अपने पहले मैच में शतक लगाया। इस टूर्नामेंट के आधार पर खिलाड़ियों को भारतीय क्रिकेट टीम के लिए चुना जाना था।

घरेलू क्रिकेट में सचिन ने रणजी ट्रॉफी, ईरानी कप और दुलीप ट्रॉफी के पहले मैच में शतक लगाया। यह रिकॉर्ड आज तक बरकरार है और ना ही किसी ने सचिन से पहले ऐसा कारनामा किया।


सचिन तेंदुलकर का अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में आगमन :

1989 में सचिन को भारत की अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के लिए चुना गया जिसका श्रेय उस समय के सलेक्टर राज सिंह डूंगरपुर को जाता है , उन्होंने है सचिन की प्रतिभा को देखते हुए उन्हें भारत के पाकिस्तान दौरे के लिए सेलेक्ट कर लिया।

15 नवंबर 1989 को सचिन तेंदुलकर ने अपने अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट कैरियर की शुरुआत पाकिस्तान के खिलाफ कराची में की।

अपने पहले मैच में सचिन ने 15 रन का योगदान दिया।

इसी श्रृंखला के एक मैच में एक तेज रफ्तार गेंद सचिन के नाक पर लगी जिस कारण उनकी नाक से खून बहने लगा , जब फिजियो ने सचिन को बाहर जाने की सलाह दी तो सचिन ने जवाब दिया ,"मैं खेलूंगा।" 

 उस मैच में सचिन ने 54 रन बनाए।

सचिन तेंदुलकर का अंतराष्ट्रीय टेस्ट कैरियर :

सचिन ने अपने पूरे कैरियर में 200 टेस्ट मैच खेले जिसमें 329 इनिंग्स में उन्होंने 53.79 की औसत से कुल 15,921 रन बनाए।

गेंदबाजी की बात की जाए तो 200 टेस्ट मैचों की 145 इनिंग्स में 4,240 गेंदे डालकर 46 विकट्स चटकाए।

सचिन तेंदुलकर का ODI कैरियर :

सचिन ने अपने ODI कैरियर की शुरुआत 18 दिसंबर 1989 को पाकिस्तान के खिलाफ की।

अपने पूरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर में 463 मैचों में 44.83 की औसत से 18,426 रन बनाए।

गेंदबाजी में सचिन ने 463 मैचों में 8,054 गेंदे डालकर 154 विकटों को अपने नाम किया।

सचिन तेंदुलकर का अंतराष्ट्रीय T-20 कैरियर:

T-20 कैरियर की बात करें तो सचिन ने अंतरराष्ट्रीय T-20 में केवल 1 मैच खेला जिसमें उन्होंने 2 ओवर गेंदबाजी की और 15 गेंदों में 12 रन दिए साथ ही 1 विकेट भी चटकाया।

सचिन तेंदुलकर का IPL कैरियर :

IPL में सचिन मुंबई इंडियंस की टीम से खेलते थे। सचिन ने 2008 से 2013 तक IPL खेला जिसमें उन्होंने 78 मैचों में 119.82 के स्ट्राइक रेट से 2,334 रन बनाए।

सचिन तेंदुलकर के कैरियर आंकड़े :

फॉर्मेट ODI टेस्ट t-20
मैच 463 200 1
रन 18,426 15,921 10
औसत 44.83 53.79 10.0
अर्धशतक 96 68 -
शतक 49 51 -
सर्वाधिक रन 200 248 10
विकेट 154 46 1
कैच 140 115 1

सचिन तेंदुलकर का निजी जीवन :

सचिन सहज और सरल स्वभाव के व्यक्ति हैं उन्होंने अपने जीवन में केवल एक ही जीवनसाथी के साथ रिश्ता रखा।

सचिन 1990 में अंजलि तेंदुलकर से मिले थे , 5 वर्ष बाद 1995 में सचिन और अंजलि ने विवाह कर लिया।

2 वर्षों के बाद 12 अक्टूबर 1997 में उनके घर एक पुत्री का जन्म हुआ जिसका नाम सारा रखा गया।

24 सितंबर 1999 को सचिन और अंजलि तेंदुलकर को एक बेटा हुए जिसका नाम अर्जुन तेंदुलकर है । अर्जुन भी अपने पिता की तरह एक क्रिकेटर हैं।

सचिन तेंदुलकर के रिकॉर्ड्स :

रिकॉर्ड्स के मामले में सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट का भगवान माना जाता है।


1. वन डे इंटरनेशनल में सचिन तेंदुलकर के नाम सर्वाधिक रनों का रिकॉर्ड है। इन्होंने ODI में 18,426 रन बनाए हैं।


2. टेस्ट में 15,921 रन का रिकॉर्ड भी सचिन के नाम है।


3. अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में सचिन के नाम 100 शतक बनाने का रिकॉर्ड है , जिसमें उन्होंने टेस्ट में 51 शतक और ODI में 49 शतक बनाए।


4. एक क्रिकेटर के रूप में सर्वाधिक टेस्ट मैच खेलने का रिकॉर्ड भी सचिन तेंदुलकर के नाम है, सचिन तेंदुलकर ने 200 टेस्ट मैच खेले हैं।


5. रणजी ट्रॉफी, ईरानी कप और दुलीप ट्रॉफी में अपने डेब्यू मैच में शतक लगाने वाले वे सबसे युवा और पहले बल्लेबाज हैं।


6. टेस्ट मैचों में सर्वाधिक चौके लगाने का रिकॉर्ड भी सचिन तेंदुलकर के नाम है , सचिन ने अंतराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में 2,058 चौके लगाए हैं।


सचिन तेंदुलकर के पुरस्कार और सम्मान


अर्जुन पुरस्कार क्रिकेट , 1994 में;

पद्म श्री , 1999 में;

महाराष्ट्र भूषण पुरूस्कार , 2001 में;

पद्म विभूषण , 2008 में;

ICC क्रिकेटर ऑफ द ईयर , 2010 में;

LG पीपुल्स च्वाइस अवार्ड , 2010 में;

भारत रत्न , 2014 में;

लॉरियस वर्ल्ड स्पोर्ट्स अवॉर्ड, 2020;


यह भी पढ़ें :-

अरिजीत सिंह की जीवनी

युवराज सिंह की जीवनी 

M S Dhoni की जीवनी 

अल्बर्ट आइंस्टीन की जीवनी 

डॉ राहत इंदौरी की जीवनी 

जेठालाल की बायोग्राफी



Comments

Popular posts from this blog

रोहित शर्मा का जीवन परिचय Rohit Sharma Biography In Hindi

 रोहित शर्मा का जीवन परिचय  (Rohit Sharma Biography In Hindi) रोहित शर्मा भारतीय क्रिकेट टीम के उपकप्तान और ओपनर बल्लेबाज हैं, रोहित को hit-man के नाम से जाना जाता है। IPL में सबसे सफल कप्तान का खिताब भी रोहित के पास ही है,  रोहित शर्मा अब तक 5 बार IPL की ट्रॉफी मुंबई इंडियंस के लिए जीत चुके हैं। रोहित शर्मा का प्रारंभिक जीवन : रोहित का जन्म 30 अप्रैल 1987 को नागपुर में हुआ था। उनकी माता का नाम पूर्णिमा और उनके पिता का नाम गुरुनाथ शर्मा है , रोहित शर्मा के पिता एक ट्रांसपोर्ट फार्म में काम करते थे, उनकी आर्थिक स्थिति कुछ खास अच्छी नहीं थी।रोहित बचपन से ही क्रिकेट के शौकीन थे। 1999 में रोहित ने क्रिकेट एकेडमी में प्रवेश लिया। दिनेश लाड क्रिकेट अकेमेडी में उनके कोच थे।रोहित के कोच दिनेश लाड ने रोहित को उनके क्रिकेट को निखारने के लिए उन्हें अपना स्कूल बदलने की सलाह दी और उन्हें स्वामी विवेकानंद इंटरनेशनल स्कूल में प्रवेश लेने का सुझाव दिया, परंतु रोहित की आर्थिक स्थिति इतनी मजबूत न थी कि वे स्कूल की फीस भर सकें। अतः रोहित की मदद के लिए उनके कोच ने रोहित को स्कॉलरशिप दिलाई ,जिससे कि उनकी

सुनील गावस्कर का जीवन परिचय Sunil Gavaskar Biography In Hindi

सुनील गावस्कर का जीवन परिचय (Sunil Gavaskar Biography In Hindi)  सुनील गावस्कर पूर्व भारतीय क्रिकेटर हैं, वे अपने समय के महान बल्लेबाज रहे । उन्हें लिटिल मास्टर कहकर पुकारा जाता है। सुनील गावस्कर का आरंभिक जीवन : सुनील गावस्कर का जन्म 10 जुलाई 1949 को मुंबई में हुआ था। इनके पिता का नाम मनोहर गावस्कर , और माता का नाम मीनल गावस्कर था। उनकी 2 बहनों के नाम नूतन गावस्कर और कविता विश्वनाथ हैं। बचपन में सुनील गावस्कर प्रसिद्ध पहलवान मारुति वाडर के बहुत बड़े फैन थे और उन्हें देखकर सुनील भी एक पहलवान बनना चाहते थे, लेकिन अपने स्कूल के समय से ही सुनील क्रिकेटप्रेमी भी रहे , उन्होंने कई बार लोगों का ध्यान अपनी प्रतिभा की ओर आकर्षित किया था। 1966 में सुनील गावस्कर ने रणजी ट्रॉफी में डेब्यू किया।रणजी ट्रॉफी टूर्नामेंट में  सुनील गावस्कर ने कर्नाटक की टीम के खिलाफ दोहरा शतक जड़ दिया। सुनील गावस्कर का अंतराष्ट्रीय टेस्ट कैरियर : 1971 में सुनील गावस्कर का चयन भारतीय क्रिकेट टीम में वेस्ट इंडीज के खिलाफ टेस्ट मैच में खेलने के लिए हुआ।सुनील गावस्कर अपने समय के बहुत बड़े और महान बल्लेबाज थे। अपने पूरे कर

कपिल देव की जीवनी Kapil Dev Biography In Hindi

कपिल देव की जीवनी (Kapil Dev Biography In Hindi) कपिल देव का जीवन परिचय : नाम :कपिल देव; पिता : राम लाल निखंज; माता : राकुमारी लाजवंती ; भाई - बहन : 2 भाई और 3 बहनें ; व्यवसाय : क्रिकेटर ; पत्नी : रोमी भाटिया ; पुत्री : अमिया देव ; कपिल देव का आरंभिक जीवन : कपिल देव का जन्म 6 जनवरी 1959 को चंडीगढ़,पंजाब में हुआ था। उनके पिता का नाम रामलाल निकुंज और माता का नाम राजकुमारी था। कपिल देव के पिता लकड़ियों के व्यापारी थे। भारत पाकिस्तान बंटवारे से पहले कपिल देव का परिवार पाकिस्तान में रहता था लेकिन भारत - पाक विभाजन के बाद वे भारत में आ गए। कपिल देव के 2 भाई और 3 बहनें हैं। क्रिकेट को कपिल देव बचपन से ही बहुत पसंद करते थे और खेलने में भी बचपन से ही बहुत प्रतिभावान थे।कपिल देव तेज गेंदबाज बनना चाहते थे जिसके लिए उन्होंने अपने कंधों को मजबूत करना था , अतः वे बचपन से ही लकड़ी काटा करते थे जिससे कि उनके कंधे  मजबूत रहें। कपिल देव ने अपनी शुरुआती स्कूली पढ़ाई DAV स्कूल से की; स्कूल में भी वे काफी अच्छे स्पोर्ट्स मैन थे। बाद में उनके पिता ने कपिल देव का दाखिला सेंट एडवर्ड कॉलेज में करा लिय