Skip to main content

अरिजीत सिंह की जीवनी Arijit Singh Biography In Hindi

 अरिजीत सिंह की जीवनी 

 Arijit Singh Biography In Hindi


अरिजीत सिंह की संक्षिप्त जीवनी :

जन्म - 25 अप्रैल 1987 ;
स्थान - मुर्शिदाबाद ( पश्चिम बंगाल);
पिता - नाम ज्ञात नहीं ( व्यवसाय -LIC में कार्यरत);
माता - गायिका एवं गृहणी  ;  
बहन - अमृता सिंह ;

अरिजीत सिंह की जीवनी
अरिजीत सिंह 

अरिजीत सिंह का प्रारंभिक जीवन :

अरिजीत सिंह का जन्म 25 अप्रैल 1987 को मुर्शिदाबाद ( पश्चिम बंगाल) के जिआगंज में हुआ था। इनके पिता पंजाब और माता बंगाल से हैं।अरिजीत के पिता LIC में कार्यरत थे।अरिजीत का संगीत से नाता उनके ननिहाल से शुरू हुआ।उनकी नानी ने भारतीय शास्त्रीय संगीत सीखा था , उनकी मौसी और माता भी गायन में अच्छी थी , साथ ही अरिजीत के मामा भी तबला वादक थे। अपने ननिहाल से ही अरिजीत को संगीत की प्रेरणा मिली और यही प्रेरणा उन्हें संगीत की ओर खींचती चली गई।

अरिजीत ने स्कूली पढ़ाई की शुरुआत जिआगंज राजा बिजोय सिंह हाई स्कूल से की और श्रीपत सिंह कॉलेज में दाखिला लिया।पढ़ाई में अरिजीत काफी अच्छे छात्र थे।

संगीत की शिक्षा :

अरिजीत की संगीत के प्रति लगाव को देखते हुए परिवार वालों ने इन्हें भारतीय शास्त्रीय संगीत की शिक्षा के लिए राजेन्द्र प्रसाद हजारी जी के पास भेजा। इसी के साथ उन्होंने बहुत कम उम्र में धीरेन्द्र प्रसाद हजारी जी से तबला वादन की कला सीखी।

बाद में अरिजीत सिंह ने बीरेंद्र प्रसाद हजारी जी से मॉडर्न पॉप संगीत सीखा।

अरिजीत सिंह के कैरियर की शुरुआत :

शुरुआती दौर में अरिजीत ने रियलिटी शो में अपना लक आजमाया। बात है 2005 की जब सोनी टीवी के प्रोग्राम फेम गुरुकुल में भाग लिया। उस समय जज के तौर पर शंकर महादेवन भी उस शो में थे , अरिजीत इस शो में टॉप 6 तक पहुंचे लेकिन वह ये शो जीत नहीं पाए, लेकिन टीवी पर आने से उन्हें एक पहचान जरूर मिल गई।

बाद में अरिजीत ने "दस के दस ले गए दिल" शो में भाग लिया और उसे जीता भी।

शो जीतने के बाद अरिजीत ने कई बड़े म्यूजिक डायरेक्टरों और प्रोड्यूसरों के साथ मिलकर काम किया जहां वे बतौर म्यूजिक प्रोग्रामर काम करते थे। 

लेकिन अरिजीत से कोई भी बड़ा संगीतकार अपने गाने नहीं गवाना चाहता था। , लेकिन अरिजीत ने कभी हार नहीं मानी और वे काम करते गए।

 अरिजीत सिंह का bollywood में गायकी  का सफर :

अरिजीत सिंह ने अपना पहला गाना 2009 में संगीत निर्देशक मिथुन के साथ रिकॉर्ड किया , यह गाना था - फिर मोहब्बत करने चला है , जिसे फिल्म मर्डर 2 के लिए रिकॉर्ड किया गया था। यह गाना 2011 में रिलीज किया गया।

अरिजीत ने शंकर-एहसान-लॉय की म्यूजिक एल्बम हाई स्कूल म्यूजिक एल्बम 2 में "ऑल फॉर वन" गाया।

2010 और 2011 में प्रीतम चक्रवर्ती के साथ अरिजीत सिंह ने गोलमाल 3 और एक्शन रिप्ले जैसी फिल्मों में म्यूजिक प्रोडक्शन में काम किया ।

2013 में आशिक़ी 2 के तुम ही हो से मिला बड़ा ब्रेक :

2013 में आशिक़ी 2 के टाइटल सॉन्ग के लिए मिथुन ने अरिजीत सिंह को चुना , गाना था - "तुम ही हो" और यही गाना अरिजीत सिंह के करियर का सबसे बड़ा ब्रेकथ्रू बना। 

यह गाना उस समय का सबसे अधिक लोकप्रिय गीत बना। इसके लिए अरिजीत को बहुत सारे अवॉर्ड्स से नवाजा गया।

अब जहां कई संगीतकार अरिजीत को इसलिए काम नहीं देते थे कि वे नई आवाज़ का जोखिम नहीं उठाना चाहते थे अब वे सभी छोटे बड़े संगीतकार और निर्माता अरिजीत से गाना गवाना चाहते थे।

2013 में ही अरिजीत ने लगभग सभी हिट फिल्मों में बतौर प्लेबैक सिंगर काम किया ,इसमें फटा पोस्टर निकला हीरो, आर राजकुमार, रामलीला आदि शामिल हैं। 2013 में अरिजीत सिंह ने कुल 22 गाने गाए।

अगले साल साजिद वाजिद,ए आर रहमान ,और कई बड़े म्यूजिक डायरेक्टरों के साथ काम किया, 2014 में अरिजीत ने 28 हिट सॉन्ग्स में अपनी आवाज़ दी, जिसमें समझावां, आज फिर, सुनो ना संगमरमर जैसे गाने शामिल थे।

अरिजीत सिंह अब तक पांच सौ से अधिक गानों में अपनी आवाज़ दे चुके हैं, और नौजवानों के बीच काफी लोकप्रिय हैं।

अरिजीत सिंह का व्यक्तिगत जीवन :

अरिजीत सिंह कैमरे के सामने आना अधिक पसंद नहीं करते हैं , वे बहुत साधारण सा जीवन जीते हैं। उनके कॉन्सर्ट्स में भी वे अधिक डिजाइनर कपड़े नहीं पहनते हैं। 2013 में अरिजीत ने फेम गुरुकुल की फाइनलिस्ट रूपरेखा बनर्जी से शादी की लेकिन यह शादी 1 साल भी नहीं चली। 20 जनवरी 2014 में अरिजीत सिंह ने अपने बचपन की दोस्त कोयल रॉय से तारापीठ मंदिर (पश्चिम बंगाल) में शादी की, यह अरिजीत और कोयल दोनों की दूसरी शादी है।

अरिजीत सिंह अवॉर्ड्स :

2013 के तुम ही हो गाने के लिए अरिजीत को कुल 11 अवॉर्ड्स के लिए नामांकित किया गया जिसमें से 9 उन्हें प्राप्त हुए। उनमें से कुछ प्रमुख अवॉर्ड्स ;

फिल्मफेयर अवार्ड बेस्ट प्लेबैक सिंगर मेल (2014);

मिर्ची म्यूजिक अवार्ड्स फॉर क्रिटिक्स चॉइस मेल (2014);

ज़ी सिने अवार्ड बेस्ट प्लेबैक सिंगर मेल ( 2014);

गिल्ड अवॉर्ड फॉर बेस्ट प्लेबैक सिंगर मेल (2014);

स्क्रीन अवॉर्ड फॉर बेस्ट प्लेबैक (2013);

बिग स्टार मोस्ट एंटरटेनिंग सोंग (2013);

GiMA अवॉर्ड फॉर बेस्ट प्लेबैक सिंगर मेल (2014);

अरिजीत सिंह के अन्य अवॉर्ड्स -

 फिल्मफेयर बेस्ट प्लेबैक सिंगर मेल (2014, 2016, 2017, 2018, 2019, 2020) ;

IIFA अवॉर्ड फॉर बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर (2018, 2019)

मिर्ची म्यूजिक अवार्ड्स फॉर क्रिटिक्स चॉइस मेल (2017, 2018, 2020);

ज़ी सिने अवार्ड बेस्ट प्लेबैक सिंगर मेल (2014, 2016, 2017, 2020) ;

अरिजीत सिंह के बारे में रोचक तथ्य :

( Interesting Facts About Arijit Singh )

1. 2005 में रियलिटी शो ख़तम होने के बाद प्रसिद्ध संगीत निर्देशक संजय लीला भंसाली ने अरिजीत की प्रतिभा को देखते हुए अरिजीत से अपनी फिल्म सांवरिया के लिए एक गाना गवाया लेकिन फिल्म की स्क्रिप्ट में बदलाव होने के कारण यह गाना रिलीज नहीं हो पाया।

2. 2014 में अरिजीत सिंह ने कोयल रॉय से शादी की , कोयल की भी यह दूसरी शादी है और उनकी पहले से एक बेटी है जिसे अरिजीत बहुत प्यार करते हैं।

3. गायकी के आलावा अरिजीत को फोटोग्राफी, साइकिलिंग, और लिखने का शौक भी है। अरिजीत को बैडमिंटन खेलना भी पसंद है साथ ही वे डॉक्यूमेंट्री भी बनाते हैं।

4. जब एक बार उनसे उनके लंबे बालों और दाढ़ी के बारे में पूछा गया तो उनका जवाब था कि मुंबई में उन्हें इसके लिए समय ही नहीं मिला।

5. अरिजीत सिंह एक गैर सरकारी संगठन (NGO) Let There Be Light भी चलाते हैं ,इस संगठन का मुख्य उद्देश्य गरीब लोगों की सहायता करना है।

6. सलमान खान और अरिजीत सिंह के बीच नोक झोक के कारण अरिजीत को सलमान की कुछ फिल्मों जैसे सुल्तान, किक और बजरंगी भाईजान में गाने का अवसर नहीं मिल पाया। हालांकि म्यूजिक डायरेक्टरों ने अरिजीत से गाना रिकॉर्ड कराया था लेकिन सलमान खान के हस्तक्षेप के कारण अरिजीत सिंह को मौका नहीं दिया गया।

7. 2013 में एक इंटरव्यू के दौरान अरिजीत को पूछा गया कि उनके पास कौन सी कार है ? अरिजीत ने जवाब दिया कि उनके पास कोई कार नहीं है , वे पब्लिक ट्रांसपोर्ट से यात्रा करते हैं , और स्टूडियो तक जाने के लिए वे ऑटो रिक्शा का प्रयोग करते हैं।

You Might Also Like :

एम एस धोनी की जीवनी

युवराज सिंह की जीवनी

अल्बर्ट आइंस्टीन की जीवनी

 स्वामी विवेकानंद की जीवनी 

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जीवनी 

सरदार वल्लभ भाई पटेल की जीवनी

Comments

Popular posts from this blog

Dilip Joshi Jethalal Biography In Hindi

Dilip Joshi's (jethalal) Biography In Hindi दिलीप जोशी ( जेठालाल) की जीवनी तारक मेहता का उल्टा चश्मा,एक ऐसा शो जिसने पूरा भारत को 12 वर्षों से एक धागे में पिरो के रखा है यानी एक ऐसा शो जिसे पूरे देश के हर घर में देखा जाता है। दोस्तों यह शो उस समय आया था जब टेलीविजन पर (छोटे पर्दे पर) कॉमेडी के नाम पर ना के बराबर कुछ हो पाता था। उस समय तक मुख्यत: बॉलीवुड की फिल्मों तक ही कॉमेडी सीमित थी अथवा कॉमेडी यदि छोटे पर्दे पर होती भी तो वह उतनी मजेदार न थी। Dilop Joshi's Biography In Hindi ऐसे समय में असित कुमार मोदी जी ने "तारक मेहता का उल्टा चश्मा" को बनाने का निश्चय किया और देखते ही देखते यह शो इतना पॉपुलर हो गया कि यह देश का number 1 शो बन गया। इस शो के इतना प्रसिद्ध होने के पीछे सबसे बड़ी भूमिका निभाई जेठालाल गड़ा यानी दिलीप जोशी जी ने । इनके कमाल के अभिनय के दम पर ही यह शो इतना पॉपुलर हुआ। आज हम इन्हीं के बारे में बात करेंगे । जन्म - 1968 पढ़ाई - बी कॉम पॉपुलर शो - तारक मेहता का उल्टा चश्मा पत्नी - जयमाला जोशी पुत्र/पुत्री - नियति जोशी (पुत्री

सी वी रमन जीवनी Biography Of C V Raman In Hindi

    Biography Of C V Raman In Hindi सी वी रमन की जीवनी                    सी वी रमन:भौतिक विज्ञानी सी वी रमन जीवनी C V Raman का शुरुआती जीवन चंद्रशेखर वेंकट रमन का जन्म 7 नवंबर, 1888 को मद्रास प्रेसिडेंसी, ब्रिटिश भारत के त्रिचिनीपोली शहर में हुआ था। आज यह शहर तिरुचिनापल्ली के नाम से जाना जाता है और भारत के तमिलनाडू राज्य में स्थित है। रमन के पिता चंद्रशेखरन रामनाथन अय्यर थे, जो गणित और भौतिकी के शिक्षक थे। उनकी मां पार्वती अम्मल थीं, जिन्हें उनके पति ने पढ़ना और लिखना सिखाया था। रमन के जन्म के समय, परिवार कम आय पर रहता था। रमन आठ बच्चों में से दूसरे थे। रमन का परिवार ब्राह्मण था, जो पुजारियों और विद्वानों की हिंदू जाति के थे।  हालाँकि, उनके पिता ने धार्मिक मामलों पर बहुत कम ध्यान दिया । रमन अपने पिता की तरह नहीं थे  उन्होंने कुछ हिंदू रीति-रिवाजों का पालन अच्छे तरीके से किया और शाकाहार जैसी परंपराओं का सम्मान किया। जब रमन चार साल के थे, तब उनके पिता को एक अच्छी नौकरी मिल गई, कॉलेज लेक्चरर बन गए और उसी वर्ष वे अपने परिवार सहित वाल्टेयर (अब विशाखापत्तनम) चले गए। बचप

स्वामी विवेकानंद की जीवनी Biography Of Swami Vivekananda In Hindi

 उठो जागो और लक्ष्य प्राप्ति तक मत रुको ! यह कथन था स्वामी विवेकानंद जी का। स्वामी विवेकानन्द ने अपना सम्पूर्ण जीवन भारत देश की सभ्यता एवं संस्कृति को विश्व के सम्मुख एक नई पहचान दिलाने में बिता दिया। उन्होंने जीवन भर सनातन धर्म की सेवा की और अपने सभी शिष्यों को भी यही सीख दी। स्वामी विवेकानंद का संक्षिप्त जीवन परिचय - मूल नाम - नरेंद्र अथवा नरेन ; जन्म - 12 जनवरी 1863 ; जन्म स्थान - कलकत्ता (प. बंगाल); पिता - विश्वनाथ दत्त ; माता - भुवनेश्वरी देवी ; शिक्षा - बी. ए. ; भाई - बहन - नौ (9) ; पत्नी - अविवाहित रहे ; संदेश - उत्तिष्ठत जाग्रत प्राप्य वरान्निबोधत ! ; स्वामी विवेकानन्द का आरंभिक जीवन : स्वामी विवेकानन्द जी का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में हुआ था। इनके पिता का नाम विश्वनाथ दत्त था, जो कि एक वकील थे ।इनकी माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था, वह गृहणी थीं। स्वामी विवेकानंद जी का नाम नरेंद्र नाथ दत्त रखा गया था। नरेंद्र की माता भगवान शिव की बहुत बड़ी भक्त थीं जबकि इनके पिता पश्चिमी विचारधारा के समर्थक थे। बचपन से ही नरेंद्र कुशाग्र बुद्धि के थे साथ ही वे बड़े शरारती भी थे, उनकी मात