Skip to main content

लता मंगेशकर की जीवनी Lata Mangeshkar Biography In Hindi

 लता मंगेशकर की जीवनी (Lata Mangeshkar Biography In Hindi)

Lata Mangeshkar Biography In Hindi






लता मंगेशकर का जन्म 28 सितंबर 1929 को इंदौर शहर , मध्यप्रदेश में हुआ था। इनके पिता का नाम पंडित दीनानाथ मंगेशकर था जो कि खुद भी एक गायक और थियेटर कलाकार थे।लताजी की माता का नाम शुधमति मंगेशकर था।

अपने पिता से प्रेरणा लेकर ही लता जी ने भी संगीत को अपना जीवन बनाने का निश्चय किया। लता जी के अलावा दीनानाथ जी की 3 बेटियां आशा,मीना और ऊषा और बेटे हृदानाथ ने भी संगीत सीखा।
लता जी के पहले गुरु उनके पिता पंडित दीनानाथ मंगेशकर ही थे। जब लता मंगेशकर 5 वर्ष की थी उसी समय उन्होंने अपने पिता के साथ काम करना शुरू कर दिया था।

लता जी संगीत को इतनी बारीकी से समझती थीं कि अगले दिन स्कूल में अन्य बच्चों को भी सिखा देती थी।एक दिन स्कूल के अध्यापक ने लता जी को इस काम के लिए डांटा और लता ने स्कूल जाना ही छोड़ दिया और अपना पूरा ध्यान संगीत में लगाने का निर्णय लिया।

जब लता 13 वर्ष की थीं,उसी समय उनके पिता की मृत्यु हो गई , उनके परिवार की आर्थिक स्थिति बिगड़ गई, और सबसे बड़ी बेटी होने के कारण लता को जिम्मेदारी उठानी पड़ी।

लता को अभिनय में रुचि नहीं थी फिर भी उन्हें अपनी आर्थिक स्थिति को ठीक करने के लिए मराठी और हिंदी फिल्मों में अभिनय करना पड़ा। उस दौरान लता जी ने कई फिल्मों में छोटे रोल किए।

लता मंगेशकर का गायन करियर : (Lata Mangeshkar Singing Career)

 लता ने अपना संगीत से प्रेम कभी नहीं छोड़ा और वे गायन की कला को और निखारती रहीं।1942 के समय एक मराठी फिल्म में लताजी को सदाशिवराव नेवरेकर ने गाने का मौका दिया। लता ने गाना रिकॉर्ड तो कराया परंतु आखिरी समय पर वो गाना फिल्म से हटा दिया गया।

इसी वर्ष एक अन्य फिल्म 'मंगला गौर' में लता जी को गाने का अवसर मिला और यहीं से उनके गायन के करियर की शुरुआत हुई।

सन 1945 में लता मुंबई आईं ,और उस्ताद अमन अली खान से इंडियन क्लासिकल म्यूजिक की ट्रेनिंग लेना शुरू किया।

1945 के वर्ष में लता ने एक फिल्म 'बड़ी मां' के लिए एक गीत (भजन) - 'माता तेरे चरणों में' गाया। इस गाने ने दर्शकों का ध्यान लता जी की ओर आकर्षित किया।

लता जी की प्रतिभा को जाने माने संगीतकार गुलाम हैदर ने बहुत अच्छे से पहचान लिया था, इसलिए उन्होंने कई फिल्म निर्माताओं से लता जी की सिफारिश की लेकिन उनकी आवाज को बहुत पतली बताकर लता जी से फिल्म निर्माता काम नहीं कराना चाहते थे।

गुलाम हैदर ने लता जी को 1948 में रिलीज हुई फिल्म 'मजबूर' में एक गाना गवाया। यह गाना दर्शकों और निर्माताओं सभी को बहुत पसंद आया।यह लताजी के करियर का सबसे पहला हिट गाना था।

1950 से लताजी को बहुत सारे फिल्म निर्माता और संगीतकारों ने गानों के लिए आमंत्रित किया। यह वह दौर था जब सभी फिल्म निर्माता लता जी से ही अपना गाना गवाना चाहते थे।

लताजी को इतनी प्रसिद्धि प्राप्त हुई कि कई असफल फिल्में भी केवल उन्हीं के गीतों के कारण चल पाई। लताजी ने अपनी खुद की गायन शैली विकसित की जिस कारण उन्होंने हर एक संगीत प्रेमी को प्रभावित किया।

1980 के दशक तक लताजी ने कई गाने गाए , 90 के दशक में उन्होंने गाना काम किया, और इसका कारण फिल्म संगीत में गिरावट थी।

लता मंगेशकर के बारे में रोचक तथ्य; (Interesting Facts About Lata Mangeshkar )

  • जहर देकर मारने की कोशिश :वर्ष 1962 में लता जी को जहर देकर मारने की कोशिश की गई थी , उस दिन उन्हें काफी परेशानी हुई लेकिन वह बच गई। हालांकि इस बात का खुलासा नहीं हो पाया की उन्हें मारने की कोशिश किसने और क्यों की परंतु उस दिन उनका कुक (बावर्ची) घर से गायब था।

  • अजीवन रहीं अविवाहित - बचपन में ही परिवार की जिम्मेदारी कंधों पर आने के कारण लता को शादी के बारे में सोचने का अवसर न मिल सका , बाद में उन्हें विवाह के कई प्रस्ताव आए लेकिन उन्होंने सभी को ठुकरा दिया। लता जी को विवाह प्रस्ताव भेजने वालों में से एक उस समय के जाने माने संगीतकार सी. रामचंद्रन भी थे।
  • 27 जनवरी 1963 को जब लता जी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के समक्ष 'ए मेरे वतन के लोगों' गाया, उस समय नेहरू जी की आंखों में भी आंसू आ गए थे।
  • लता मंगेशकर पुरस्कार :1984 में मध्य प्रदेश की राज्य सरकार ने लता मंगेशकर के सम्मान में उनके नाम पर एक पुरुस्कार रखा जिसे लता मंगेशकर पुरस्कार कहा जाता है , यह पुरुस्कार प्रत्येक वर्ष संगीत के क्षेत्र में दिया जाता है।

पुरुस्कार और सम्मान - (Lata Mangeshkar awards and honours)


फिल्म फेयर अवार्ड : 1958,1962,1965,1969,1994 ;
पद्म भूषण : 1969
महाराष्ट्र सरकार पुरुस्कार : 1966
दादा साहेब फाल्के सम्मान : 1989
फिल्म फेयर लाइफ टाइम अचीवमेंट : 1993
राजीव गांधी अवार्ड : 1997
पद्म विभूषण : 1999
आइफा लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड: 2000
भारत रत्न : 2001

यह भी पढ़ें :








Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

Dilip Joshi Jethalal Biography In Hindi

Dilip Joshi's (jethalal) Biography In Hindi दिलीप जोशी ( जेठालाल) की जीवनी तारक मेहता का उल्टा चश्मा,एक ऐसा शो जिसने पूरा भारत को 12 वर्षों से एक धागे में पिरो के रखा है यानी एक ऐसा शो जिसे पूरे देश के हर घर में देखा जाता है। दोस्तों यह शो उस समय आया था जब टेलीविजन पर (छोटे पर्दे पर) कॉमेडी के नाम पर ना के बराबर कुछ हो पाता था। उस समय तक मुख्यत: बॉलीवुड की फिल्मों तक ही कॉमेडी सीमित थी अथवा कॉमेडी यदि छोटे पर्दे पर होती भी तो वह उतनी मजेदार न थी। Dilop Joshi's Biography In Hindi ऐसे समय में असित कुमार मोदी जी ने "तारक मेहता का उल्टा चश्मा" को बनाने का निश्चय किया और देखते ही देखते यह शो इतना पॉपुलर हो गया कि यह देश का number 1 शो बन गया। इस शो के इतना प्रसिद्ध होने के पीछे सबसे बड़ी भूमिका निभाई जेठालाल गड़ा यानी दिलीप जोशी जी ने । इनके कमाल के अभिनय के दम पर ही यह शो इतना पॉपुलर हुआ। आज हम इन्हीं के बारे में बात करेंगे । जन्म - 1968 पढ़ाई - बी कॉम पॉपुलर शो - तारक मेहता का उल्टा चश्मा पत्नी - जयमाला जोशी पुत्र/पुत्री - नियति जोशी (पुत्री

सी वी रमन जीवनी Biography Of C V Raman In Hindi

    Biography Of C V Raman In Hindi सी वी रमन की जीवनी                    सी वी रमन:भौतिक विज्ञानी सी वी रमन जीवनी C V Raman का शुरुआती जीवन चंद्रशेखर वेंकट रमन का जन्म 7 नवंबर, 1888 को मद्रास प्रेसिडेंसी, ब्रिटिश भारत के त्रिचिनीपोली शहर में हुआ था। आज यह शहर तिरुचिनापल्ली के नाम से जाना जाता है और भारत के तमिलनाडू राज्य में स्थित है। रमन के पिता चंद्रशेखरन रामनाथन अय्यर थे, जो गणित और भौतिकी के शिक्षक थे। उनकी मां पार्वती अम्मल थीं, जिन्हें उनके पति ने पढ़ना और लिखना सिखाया था। रमन के जन्म के समय, परिवार कम आय पर रहता था। रमन आठ बच्चों में से दूसरे थे। रमन का परिवार ब्राह्मण था, जो पुजारियों और विद्वानों की हिंदू जाति के थे।  हालाँकि, उनके पिता ने धार्मिक मामलों पर बहुत कम ध्यान दिया । रमन अपने पिता की तरह नहीं थे  उन्होंने कुछ हिंदू रीति-रिवाजों का पालन अच्छे तरीके से किया और शाकाहार जैसी परंपराओं का सम्मान किया। जब रमन चार साल के थे, तब उनके पिता को एक अच्छी नौकरी मिल गई, कॉलेज लेक्चरर बन गए और उसी वर्ष वे अपने परिवार सहित वाल्टेयर (अब विशाखापत्तनम) चले गए। बचप

स्वामी विवेकानंद की जीवनी Biography Of Swami Vivekananda In Hindi

 उठो जागो और लक्ष्य प्राप्ति तक मत रुको ! यह कथन था स्वामी विवेकानंद जी का। स्वामी विवेकानन्द ने अपना सम्पूर्ण जीवन भारत देश की सभ्यता एवं संस्कृति को विश्व के सम्मुख एक नई पहचान दिलाने में बिता दिया। उन्होंने जीवन भर सनातन धर्म की सेवा की और अपने सभी शिष्यों को भी यही सीख दी। स्वामी विवेकानंद का संक्षिप्त जीवन परिचय - मूल नाम - नरेंद्र अथवा नरेन ; जन्म - 12 जनवरी 1863 ; जन्म स्थान - कलकत्ता (प. बंगाल); पिता - विश्वनाथ दत्त ; माता - भुवनेश्वरी देवी ; शिक्षा - बी. ए. ; भाई - बहन - नौ (9) ; पत्नी - अविवाहित रहे ; संदेश - उत्तिष्ठत जाग्रत प्राप्य वरान्निबोधत ! ; स्वामी विवेकानन्द का आरंभिक जीवन : स्वामी विवेकानन्द जी का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में हुआ था। इनके पिता का नाम विश्वनाथ दत्त था, जो कि एक वकील थे ।इनकी माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था, वह गृहणी थीं। स्वामी विवेकानंद जी का नाम नरेंद्र नाथ दत्त रखा गया था। नरेंद्र की माता भगवान शिव की बहुत बड़ी भक्त थीं जबकि इनके पिता पश्चिमी विचारधारा के समर्थक थे। बचपन से ही नरेंद्र कुशाग्र बुद्धि के थे साथ ही वे बड़े शरारती भी थे, उनकी मात